Tuesday, October 11, 2005

विभिन्न राशियों की विशेषतायें

आपकी राशि क्या है? (यहां पढें)

भाग ३

चलिये अब देखते हैं कि किसी का चंद्रमा के गृहाधिपति का अर्थात राशि का क्या प्रभाव होता है जीवन में...( वैसे एक बात साफ़ कर दूं कि सिर्फ़ राशि की विशेषतायें देखने के अलावा, उस पत्रिकाविशेष में किस ग्रह का कितना प्रभाव है देखना पडता है, मगर अभी के लिये ये देख लेते हैं)...

मेष राशि: इस राशि का स्वामि है मंगल अर्थात इस जातक में मंगल से संबंधित गुण देखने को मिलेंगे। जातक ऐम्बिशस होता है और अडियल भी। गर्म दिमाग का होता है और धैर्य कम दिखायी देता है। जातक स्वार्थी हो सकता है और निडर भी।

वॄषभ राशि: इस राशि का स्वामि है शुक्र और चंद्रमा इस राशि में हो तो उसे उच्च का चंद्रमा कहते हैं, एक तरह से चंद्रमा वृष राशि में बहुत खुश रहता है।जातक में शुक्र के गुण दिखायी देंगे अर्थात वो सौन्दर्यप्रिय होगा, हर काम में पर्फ़ेक्शन की चाह होगी, दोस्तों ( वैसे तो शायद खूब सारे दोस्त न हों, मगर जो हों वो..)के बहुत करीब रहेगा।इस राशि के जातक में कला की ओर रुझान दिखायी देता है, खुद कलाकार न हो मगर कला की सराहना कर सकेगा। ये जातक खाने के भी शौकीन होते हैं।

मिथुन राशि: स्वामि है बुध। और ये एक द्विस्वभाव राशि है। जातक बुद्धिमान होता है और कई चीज़ों में पारंगत मगर कोई भी काम पूरी तरह से नहीं करता ( यानि कि जैक आफ़ आल ट्रेड्स, मास्टर आफ़ नन)। बातचीत में बहुत चतुर और सभा को मुग्ध कर देने वाला होता है। हमेशा बदलाव को पसंद करता है, एक ही काम से बहुत जल्द बोर हो जाता है ( कई बार प्रेम संबंधी मामलों में भी)।

कर्कट राशि: इस राशि का अधिपति है चंद्रमा। यानि कि चंद्रमा अपने ही घर में हो तो राशि हुई कर्कट। अब अपने ही घर में हुआ तो चंद्रमा को बल मिलेगा। जातक काफ़ी सुलझे हुये विचारों का स्वामि होता है और इनका आकर्षक व्यक्तित्व होता है। इन्हें घर-संसार में दिलचस्पी होती है और ये परंपराओं को मानने वाले होते हैं। ये भावुक भी होते हैं।

सिंह राशि: इस राशि का स्वामि है सूर्य। जातक तेजस्वी और आकर्षक व्यक्तित्व का स्वामि होता है और जहां भी हो ( घर या दफ़्तर) अपनी तरह से काम करने/करवाने की कोशिश करता है। ये लोग अच्छे ऐड्मिनिस्ट्रेटर होते हैं। इनमें लोगों को प्रभावित करने की क्षमता होती है।

कन्या राशि: कन्या राशि का स्वामि है बुध। जातक यथार्थवादी होता है। सुलझे हुये विचारों का स्वामि होता है मगर दूसरे के काम में नुक्स निकालना इनके स्वभाव में होता है। खुद भी ये हर काम ठीक से करने में विश्वास रखते हैं। जिग्यासु ( ग्यान वाला ग्य नहीं टाईप हो रहा) प्रकृति के ये लोग, ईमानदार होते हैं और इनमें सही गलत में पार्थक्य करने की क्षमता बहुत अच्छी होती है। ये न्यायवादी होते हैं।


अगले भाग में अन्य छ: राशियों की विशेषतायें...


क्रमश: (अगला भाग कल प्रकाशित होगा)




3 comments:

Jitendra Chaudhary said...

यहाँ से "जिज्ञासु" कापी कर लीजिये। बाराहा मे "ज्ञ" लिखने के लिये j~j लिखना होता है।

Manoshi Chatterjee said...

धन्यवाद जीतेन्द्र।

SHYAM S DIXIT said...

Hello,aapka artical bahut rochak hai.mai jyotish ka student hu.mujhe acche jyotish shikhane vale jyotishi ki talash hai.kya mai aap se directally milakar jyotish sikh sakta hu.pls guide kare.with regards.shyam s dixit.