Monday, January 25, 2010

मां-बाबा- आज तुम्हारे लिये- रवीन्द्र संगीत

एक पूरी ज़िंदगी के कुछ लम्हों को जी लेना ही कितना मुश्किल होता है, वहीं आज एक बहुत प्यारे जोड़े ने ऐसे कई सुनहरे लम्हों को साथ गुज़ारते हुये अपनी सुनहरी वर्षगांठ यानि कि अपने ५०वें साल में प्रवेश किया है- मेरे मां-बाबा।  आज २६ जनवरी को उनकी शादी की सालगिरह है। बचपन से ही मां को कभी भी कोई काम इन्डिपेन्डेन्ट्ली करते नहीं देखा है, बाबा ने मां का एक राजकुमारी की तरह ख़याल रखा है हमेशा। आज भी जब सुबह मां को फ़ोन किया, तो पता चला बाबा इस अवसर पर मां की पसंद की मिठाई लेने गये थे दुकान।

ये उनके शादी के (५० साल पहले)  अवसर पर छपी एक कविता-


आज इस अवसर पर, बचपन से उन दोनों की आवाज़ में जिस गाने को डुएट सुनती आई हूँ, उस रवीन्द्र संगीत को पेश कर रही हूँ-


तुमि रबे निरबे
हृदये मम...
इस गाने में हेमंत दा व लता जी की आवाज़- फ़िल्म कुहेली

11 comments:

निर्मला कपिला said...

अपके माँ बाबा को शादी की साल गिरह की बधाई। सुन्दर गीत है। गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें

संजीव गौतम said...

meri bhi shubhkaamnaaen.

दिगम्बर नासवा said...

आपके माता पिता को विवाह की ५०वी वर्षगाँठ मुबारक और आपको भी गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत बधाई ...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपके माता पिता को विवाह की ५०वी वर्षगाँठ की बहुत बहुत बधाई ..

गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

नया वर्ष स्वागत करता है, पहन नया परिधान ।
सारे जग से न्यारा अपना, है गणतंत्र महान ॥

श्रद्धा जैन said...

Meri bhi shubhkamanayen shamil kar len
aur mujhe bhi unke aashirvaad mein bhaagidaar bana le

Udan Tashtari said...

अपके माँ बाबा को शादी की साल गिरह की बधाई।

उन्मुक्त said...

मां बाबा को शादी की सालगिरह की बधाई।

अनूप शुक्ल said...

सुन्दर संस्मरण! मां-बाबा को शादी की सालगिरह पर बधाई!

क्रिएटिव मंच-Creative Manch said...

आपके माता पिता को विवाह की ५०वी वर्षगाँठ की बहुत बहुत बधाई ...


★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
श्रेष्ठ सृजन प्रतियोगिता
★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
प्रत्येक रविवार प्रातः 10 बजे C.M. Quiz
★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
क्रियेटिव मंच

संजय भास्कर said...

मां बाबा को शादी की सालगिरह की बधाई।

Kamlesh Kumar Diwan said...

maa or pita ki yaad me kuch shabad likhe hai,dhanyabad.